दो सीट से चुनाव लड़ेंगे राहुल गांधी, पहली अमेठी दूसरी केरल की वायनाड सीट

Rahul Gandhi to contest two seats, first Amethi Second Wayanad seat in Kerala

नई दिल्ली। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी दो सीटों से लोकसभा चुनाव लड़ेंगे। रविवार को वरिष्ठ कांग्रेस नेता और पूर्व रक्षा मंत्री एके एंटनी ने इसकी पुष्टि की। उन्होंने बताया कि राहुल ने दो सीटों से चुनाव लड़ने की मांग स्वीकार कर ली है। अमेठी के अलावा दूसरी सीट केरल की वायनाड सीट होगी। 2014 में कांग्रेस ने इस सीट से जीत दर्ज की थी। इस बार यहां 23 अप्रैल को मतदान होगा। यह पहला मौका है जब राहुल दो सीट से चुनाव लड़ेंगे। इससे पहले केरल कांग्रेस ने राहुल गांधी के सामने प्रस्ताव रखा था कि वे अमेठी के अलावा वायनाड सीट से भी चुनाव लड़ें। इससे पार्टी को फायदा होगा।

केरल में पार्टी का सबसे बड़ा चेहरा शशि थरूर ने इस खबर का स्वागत किया था, वहीं भाजपा का कहना था कि राहुल डर गए हैं, इसलिए दो सीटो पर लड़ रहे हैं। मालूम हो, अमेठी में राहुल का मुकाबला केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी से है। राहुल के दो सीटों से लड़ने की खबर पर कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला का कहना है कि मोदीजी ने क्यों गुजरात छोड़ा और वाराणसी से चुनाव लड़े?क्या उन्हें गुजरात में जीत का भरोसा नहीं था? इस तरह की बातें बचकाना हैं। स्मृति ईरानी अमेठी में हार की हैट्रिक बनाएंगी।

2008 में बनी थी वायनाड सीट, शुरू से है कांग्रेस का गढ़
2008 में केरल में लोकसभा सीटों का परिसीमन हुआ था, तब वाडनाड सीट अस्तित्व में आई थी। यहां पहली बार 2009 में चुनाव हुआ था। तब कांग्रेस के एमआई शनावास जीते थे। उन्होंने सीपीआई के प्रत्याशी एडवोकेट एम. रहमतुल्ला को करीब डेढ़ लाख वोट से हराया था।

तब से यह सीट कांग्रेस का गढ़ है। 2014 के लोकसभा चुनाव में शनावास ही जीते थे। उन्हें 3,77,035 वोट मिले थे और उन्होंने सीपीआई उम्मीदवार पीआर सत्यन मुकरी को 20,870 वोटों से हराया था।