नामदार परिवार ने देश की आन-बान-शान आईएनएस विराट युद्धपोत का निजी टैक्सी की तरह किया था इस्तेमाल : मोदी

Namdhari family used the country's 'Aan-Ban-Shaan' as the private taxi of the INS Virat warship: Modi

प्रधानमंत्री ने कुरुक्षेत्र में कहा- कांग्रेस नेताओं ने मुझे हिटलर-मौत का सौदागर कहा, ये उनकी प्रेम वर्षा का सैंपल है

नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को दिल्ली के रामलीला मैदान में जनसभा की। इस दौरान मोदी ने पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी पर एक बार फिर हमला बोला। प्रधानमंत्री ने कहा कि राजीव गांधी भारत के प्रधानमंत्री रहते आईएनएस विराट युद्धपोत से ससुराल वालों के साथ छुट्टियां मनाने गए थे। मोदी ने कहा, ”कांग्रेस के सबसे बड़े नामदार परिवार ने देश की आन-बान-शान आईएनएस विराट युद्धपोत का अपनी निजी टैक्सी की तरह इस्तेमाल किया था, उसका अपमान किया था।”

प्रधानमंत्री ने कहा, ”कांग्रेस के नामदार मुझे गाली देने में कमी नहीं रखते। आज वे चिल्ला-चिल्लाकर कह रहे हैं कि सेना किसी की पर्सनल जागीर नहीं है। देश की रक्षा करने वालों को अपनी जागीर कौन समझता रहा है? क्या आपने कभी सुना है कि कोई अपने परिवार के साथ युद्धपोत से छुट्टियां मनाने जाए? ये हुआ है और हमारे ही देश में हुआ है। राजीव गांधी 10 दिन के लिए छुट्टियां मनाने निकले थे। समुद्री सीमाओं पर तैनात आईएनएस विराट को छुट्टियां मनाने जा रहे गांधी परिवार को लेने के लिए भेज दिया गया। आईएनएस विराट पूरे कुनबे को लेकर एक खास द्वीप पर 10 दिन तक रुका रहा। राजीव के साथ उनके ससुराल वाले भी थे।”

‘सेना और सरकार ने जुटाईं थीं सुविधाएं’
मोदी ने कहा, ‘गांधी परिवार जिस द्वीप पर गया था, वहां सुविधाएं जुटाने का काम भी सेना और सरकार ने किया। विशेष हेलिकॉप्टर भी इस सेवा में लगा रहा। प्रशासन मनोरंजन का इंतजाम देखता रहा। जब एक परिवार ही सर्वोच्च हो जाता है, तब देश की सुरक्षा दांव पर लग ही जाती है। ऐसे में आम नागरिकों की सुरक्षा की चिंता भी नजर नहीं आती है।”

दिल्ली इकलौता राज्य, जहां राजनीति का पांचवां मॉडल दिखा- मोदी
प्रधानमंत्री ने आम आदमी पार्टी पर निशाना साधा। मोदी ने कहा, ”आजादी के बाद से हमारे देश में 4 राजनीतिक कल्चर देखे गए। पहला नामपंथी, इनके लिए वंश और विरासत का लाभ ही विजन था। दूसरा वामपंथी, इनके लिए विदेशी विचार, विदेश व्यवहार रोजी-रोटी और विजन है। तीसरा दाम और दमनपंथी, इनके लिए गुंडातंत्र, गनतंत्र ही गणतंत्र की परिभाषा है। दिल्ली देश का वह इकलौता राज्य है, जिसने पॉलिटिकल कल्चर का एक पांचवां मॉडल भी देखा है। यह पांचवां मॉडल है नाकामपंथी। ये लोग दिल्ली के विकास से जुड़े हर काम को ना कहते हैं और जो काम करने की कोशिश करते हैं, उसमें नाकाम रहते हैं।”

प्रधानमंत्री ने कहा, ”इस नाकामपंथी मॉडल ने ना सिर्फ अराजकता फैलाई, बल्कि देश के लोगों के साथ विश्वासघात किया। इन नाकामपंथियों ने भ्रष्टाचार के खिलाफ एक बड़े आंदोलन को नाकाम करने का पाप किया। देश के सामान्य नागरिक की छवि को इन नाकामपंथियों ने बदनाम करके रख दिया है। करोड़ों युवाओं के विश्वास और भरोसे को इन लोगों ने चकनाचूर कर दिया। इन्होंने देश में नई राजनीति के प्रयासों को भी नाकाम किया है। ये लोग देश बदलने आए थे, लेकिन खुद ही बदल गए।”

‘कांग्रेस के करीबियों ने भी वंशवाद का झंडा बुलंद रखा’
मोदी ने कहा- कांग्रेस के नामदार परिवार की चौथी पीढ़ी आज देश देख रहा है। ये वंशवादी प्रवृत्ति सिर्फ एक परिवार तक ही सीमित नहीं रही। जो इस परिवार के करीबी रहे, उन्होंने भी वंशवाद का झंडा बुलंद रखा। दिल्ली में दीक्षित वंश, हरियाणा में हुड्डा वंश और वहां से लेकर भजनलालजी और बंसीलालजी तक सिर्फ वंशवाद की सियासत चल रही है। पंजाब में डेरा चीफ, राजस्थान में गहलोत-पायलट परिवार, मध्यप्रदेश में सिंधिया-कमलनाथ-दिग्विजय परिवार वंशवाद का नारा बुलंद कर रहे हैं।

महामिलावटी दलों में भी वंशवाद की विकृति- मोदी
उन्होंने कहा, ”ये विकृति कांग्रेस के साथ दूसरे महामिलावटी दलों में भी फैली हुई है। जम्मू-कश्मीर में अब्दुल्ला-मुफ्ती वंश, यूपी में मुलायम और बिहार में लालूजी के नाम पर पार्टियां चल रही हैं। महाराष्ट्र में पवार, तमिलनाडु में करुणानिधि, आंध्र में नायडू भी उसी वंशवाद का झंडा उठाए हुए हैं। ये वंशवादी नेता सामाजिक न्याय और छद्म धर्मनिरपेक्षता की आड़ में भ्रष्टाचार में लिप्त हैं। गरीबी से उठे लोगों को इन पार्टियों में बची-खुची जगह में अर्जेस्ट होना पड़ता है। जिन पार्टियों की सोच ही प्रतिभा को कुचलने की हो, वे 21वीं सदी के भारत की सोच का प्रतिनिधित्व कैसे कर सकती हैं।”

मोदी ने जीएसटी की तारीफ की
उन्होंने कहा, ”जीएसटी ने देश में टैक्स का जाल खत्म किया। इसे इस तरह डिजाइन किया गया है कि इंस्पेक्टर राज से लोगों को मुक्ति मिले। जो महंगाई देश के हर चुनाव में सबसे बड़ा मुद्दा होती थी, उस पर विपक्ष आज चाहकर भी कुछ बोल नहीं पा रहा है।”

कांग्रेस नेताओं ने मुझे हिटलर-मौत का सौदागर कहा- मोदी
इससे पहले उन्होंने बुधवार को हरियाणा के फतेहाबाद, कुरुक्षेत्र में जनसभाएं कीं। कुरुक्षेत्र में उन्होंने कहा, ”कांग्रेस के लोग प्रेम का नकाब पहनकर मुझे गालियां देते हैं। इनकी प्रेम की डिक्शनरी में मेरे लिए इस तरह का प्रेम उमड़ता है कि कांग्रेस नेताओं में मुझे गालियां देने के लिए होड़ लगती है। एक कांग्रेसी नेता मुझे गंदी नाली का कीड़ा कहता है, तो दूसरा मुझे गंगू तेली कहने आ जाता है।”

प्रधानमंत्री ने कहा, ”कांग्रेसी नेताओं द्वारा मुझे दाऊद इब्राहिम का दर्जा दिया जाता है। हिटलर कहते हैं। मोस्ट स्टुपिड पीएम, जवानों के खून का दलाल कहा गया। कांग्रेस के नेताओं ने मुझे रावण, सांप, बिच्छू, गंदा आदमी, जहर बोने वाला बताया। कांग्रेस के नेता जिसके सामने नतमस्तक हैं, उन्होंने मुझे मौत का सौदागर कहा। ये उनका प्रेम करने का तरीका है। यही उनकी डिक्शनरी है। ये मेरे ऊपर प्रेम वर्षा का सैंपल है। इनकी सोच मोदी की बोटी-बोटी करने की रही है। मोदी की बोटी-बोटी करने की घोषणा करने वालो को चुनाव में टिकट देकर इसे बढ़ावा दिया जाता है। इससे पता चलता है कि इनकी डिक्शनरी किस प्रेम से भरी है।”

1984 में कांग्रेस-दरबारियों के इशारे पर मासूमों को मारा गया- मोदी
फतेहाबाद में उन्होंने बोफोर्स रक्षा सौदे में पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी पर लगे भ्रष्टाचार का मुद्दा फिर से उठाया। मोदी ने कहा कि कांग्रेस न्याय की बात करती है, लेकिन पार्टी दलित वर्ग से आने वाले अपने अध्यक्ष को भी न्याय नहीं दिला पाई। 1984 में कांग्रेस परिवार और दरबारियों के इशारे पर मासूमों को मारा गया। भाजपा सरकार आने के बाद दोषियों को फांसी और उम्रकैद मिलना शुरू हुई। सिख दंगों के आरोपी को मध्यप्रदेश का मुख्यमंत्री बनाकर कांग्रेस ने साफ कर दिया कि उसे किसी की भावना की चिंता नहीं।

मोदी ने कहा, ”एक तरफ किसानों के हितों के लिए जहां हम पूरी ईमानदारी से काम कर रहे हैं, वहीं कांग्रेस ने झूठ और धोखे की नीति अपना रखी है। कर्जमाफी के नाम पर उसने राजस्थान में, मध्यप्रदेश में किसानों को कैसे छला है, अब इसकी चर्चा हर तरफ हो रही है। आपने जो नई सरकार दिल्ली में बनाई उसने सैनिकों की भुजाओं में नई ताकत दी। अब हमारे सपूत पाकिस्तान में आतंकियों के अड्डे में घुसकर मारते हैं। जो आतंकी कभी हमें डराते थे वे आज दुबककर बैठे हुए हैं। साथियों तमाम आतंकी हमलों का गुनहगार अब ग्लोबल टेररिस्ट घोषित हो चुका है।”

नाम लिए बगैर रॉबर्ट वाड्रा पर निशाना
मोदी ने कहा, ”हरियाणा और दिल्ली में जब कांग्रेस की सरकार थी तब कैसे कौड़ियों के दाम पर किसानों की जमीन ली गई। आप सभी के आशीर्वाद से किसानों को लूटने वालों को चौकीदार कोर्ट तक ले गया। अब वो जमानत के लिए कोर्ट के चक्कर काट रहे हैं। ईडी के दफ्तर में जूते घिस रहे हैं। पहले वे मानते थे कि वह शहंशाह हैं। देश को जिन्होंने लूटा है उन्हें लौटाना ही पड़ेगा। 5 साल और दीजिए वह सभी जेल के अंदर होंगे।”

कांग्रेस की नीतियों से कभी वॉर मेमोरियल नहीं बनता
प्रधानमंत्री ने कहा, ”कांग्रेस ने आपसे वादा किया था कि वह वन रैंक वन पेंशन लागू करेगी। ये वादा करते-करते उसने चार दशक निकाल दिए। जब आपने दबाव बनाया तो 2013-14 में चुनाव के पहले सिर्फ 500 करोड़ रखकर, कांग्रेस ने झूठ बोला कि वन रैंक वन पेंशन लागू कर दी। देश की रक्षा करने वालों से झूठ बोलने, उन्हें सम्मान न देने की कांग्रेस की नीति की वजह से दिल्ली में कभी वॉर मेमोरियल तक नहीं बना। वीरों के परिवार कहते रहे कि जिन्होंने देश के लिए जान दी उनके लिए कोई वॉर मेमोरियल नहीं है। अपने परिवार के लिए तो हर कोई मेमोरियल बनाता है।”