भाजपा के गढ़ मालवा में जीतू ने बनाई कांग्रेस की मजबूत पैठ 

टीम राहुल में युवा तुर्क बनकर उभरे कांग्रेस के जीतू 
भोपाल। मप्र में मालवा भाजपा का गढ़ माना जाता है, लेकिन टीम राहुल गांधी में युवा तुर्क बनकर उभरे जीतू पटवारी ने इसमें सेंध लगाते हुए कांग्रेस की मजबूत पैठ बनाई है। हालांकि यह कल आ रहे चुनाव परिणामों के बाद तय होगा, लेकिन सामने आए एक्जिट पोलों में यहां की 63 सीटों में लगभग 43 सीटें कांग्रेस के खाते में जाते हुए बताई जा रही हैं।
    वजह यह भी है कि प्रदेश कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष के तौर पर जीतू पटवारी ने विपरीत परिस्तिथियों मे न केवल जमीनी संघर्ष किया, बल्कि अपने चिर-परिचित अंदाज में भाजपा के सबसे मजबूत माने जाने वाले मालवा निमाड़ के रण को भेदा और विधायकों की संख्या को लगभग भाजपा के बराबर ला कर खड़ा करने मे कांग्रेस के सूत्रधार बने। मतदान बाद आए एक्जिट पोल से लगभग यह साफ भी हो गया है। हकीकत के तौर पर हालांकि यह 11 के बाद सामने आएगा। लेकिन माना जा रहा है कि इसके बाद जीतू पटवारी मप्र में कांग्रेस की राजनीति में युवा तुर्क के रूप सामने आएंगे। क्योंकि भाजपा को बीते 5 वर्षों में इन्होंने न केवल मुंहतोड़ जबाव दिया बल्कि चुनौतियों से जूझ रहे किसानों के संघर्ष में सहभागी भी बने हैं। आंकलन इसी से किया जा सकता है कि चुनाव से पहले इन्होंने जहां किसानों की पूर्ण कर्ज माफी को लेकर दो सौ किलोमीटर की साइकिल यात्रा की। वहीं दूसरी दूसरी ओर सदन में विधायक के तौर पर जिम्मेदारी का निर्वहन करते हुए मंदसौर सहित अन्य स्थानों पर हुए आंदोलन के दौरान किसानों पर दर्ज हुए आपराधिक मामलों को तत्काल वापस लेने की मांग उठाने से भी पीछे नहीं हटे हैं।
शिवराज को दी टक्कर 
जीतू पटवारी ने कांग्रेस को मजबूत करने के लिए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को सीधी चुनौती देने से भी बाज नहीं आए हैं। जन आशीर्वाद यात्रा हो या भाजपा का महाजनसम्पर्क अभियान हों, महिला शोषण हों, बेरोजगारी हों, या फिर किसानो का मुद्दा। इनके द्वारा लगाए गए आरोपों के बाद हर जगह भाजपा सरकार अपना बचाव करती हुई दिखाई दी। शिवराज की जनआशीर्वाद यात्रा को घेरने मे कांग्रेस सफल रही जिसका दारोमदार भी कमलनाथ ने अपने कार्यकारी अध्यक्ष जीतू पटवारी को दिया और पटवारी ने इसका जवाब जनजागरण यात्रा से दिया। प्रदेश के अधिकतर जिलो में पटवारी अपनी यात्रा लेकर घूमें और शिवराज की नाकामीयों को जन जन तक पहुँचाया।