नर्मदा बचाओ आंदोलन की नेता मेधा पाटकर का अनशन खत्म

Fasting of Narmada Bachao Andolan leader Medha Patkar ends

मुख्यमंत्री के प्रतिनिधि पूर्व मुख्य सचिव से चर्चा के बाद किया अनशन और धरना खत्म
पुनर्वास मुद्दों पर भोपाल में एनवीडीए अधिकारियों से होगी चर्चा

भोपाल। नर्मदा बचाओ आंदोलन की नेता मेधा पाटकर ने सोमवार रात मुख्यमंत्री के प्रतिनिधि पूर्व मुख्य सचिव एस.सी. बैहार से चर्चा के बाद अपना अनशन और धरना आंदोलन खत्म किया। पाटकर ने बेहार के हाथों नीबू पानी पीकर अपना अनशन खत्म किया। पाटकर के साथ अनशन पर बैठे नर्मदा बचाओ आंदोलन के अन्य छह कार्यकर्ताओं, जिनमें चार महिलाएँ हैं, ने भी अपना अनशन खत्म किया।

सोमवार की देर शाम मुख्यमंत्री कमल नाथ के प्रतिनिधि के रूप में बड़वानी जिले के छोटा बड़दा आये पूर्व मुख्य सचिव बैहार ने धरना स्थल पर पहुँचकर सुश्री पाटकर और उनके साथियों से चर्चा कर उन्हें मुख्यमंत्री के संदेश और सरदार सरोवर परियोजना के जल स्तर को कम करवाने के प्रयासों के बारे में विस्तार से जानकारी दी।
बैहार ने पाटकर एवं डूब प्रभावितों से भी चर्चा कर पूरी जानकारी ली। उन्होंने अनुरोध किया कि सुश्री पाटकर और अन्य साथी अपने स्वास्थ्य एवं मध्यप्रदेश सरकार के पूर्ण समर्थन को देखते हुए अपना अनशन और धरना समाप्त कर दें। इसके बाद तय हुआ कि सुश्री पाटकर और साथी 9 सितम्बर को भोपाल में एनवीडीए के पदाधिकारियों के साथ बैठक करेंगे। बैठक में उनके मुद्दों का निराकरण नहीं होने पर भोपाल में धरने का निर्णय लेंगे। पाटकर और उनके साथी विगत 25 अगस्त से अनशन और धरना आंदोलन पर थे।