हरतालिका तीज 1 या 2 सितंबर को लेकर भ्रम, शुभ मुहूर्त 1 को

हरतालिका तीज 1 या 2 सितंबर को लेकर भ्रम, शुभ मुहूर्त 1 को

मां पार्वती का सौभाग्यदायक पर्व हरतालिका तीज इस वर्ष 1 और 2 सितंबर को मनाए जाने को लेकर मतभेद है। कुछ इसे 1 को मनाए जाने का समर्थन कर रहे हैं जबकि कुछ इसे 2 को मनाए जाने के पक्ष में हैं।
चित्रा पक्षीय कैतकी गणना से तैयार पंचांगों में हरतालिका तीज 1 सितंबर को दिखा रहे हैं। जबकि अन्य पंचाग में हरतालिका तीज का व्रत 2 सितंबर को बताया जा रहा है।
पं. राजेंद्र भारद्वाज के अनुसार धर्मशास्त्र व शताब्दी पंचांग का आधार मानकर 1 सितंबर को हरतालिका तीज का व्रत रखना श्रेष्ठ बताया गया है।
इस बार ग्रह गोचर के तिथि अनुक्रम से तृतीया तिथि को लेकर दो गणनाओं का अलग-अलग मत प्रकट हो रहा है। चित्रा पक्षीय पंचांग में हरतालिका तीज 1 सितंबर रविवार को सुबह 8.28 के बाद लगेगी। जो अगले दिन सोमवार को सुबह 8.58 तक रहेगी।
वहीं ग्रहलाघवी पद्धति से निर्मित पंचागों में 2 सितंबर को हरतालिका तीज बताई गई है। इस दिन तृतीया तिथि 2 घंटे 45 मिनट रहेगी। इसके बाद चतुर्थी तिथि लग जाएगी। 2 तारीख को आधे दिन हरतालिका तीज है। इसी दिन गणेश स्थापना होगी अत: 1 सितंबर को तीज मनाया जाना उचित है।