जल्द होगी निगम-मंडलों में अध्यक्षों की नियुक्ति, मुख्यमंत्री कमलनाथ ने दी स्वीकृति

Chief Minister Kamal Nath approves appointment of chairs in corporation-committees

जल्द होगी निगम-मंडलों में अध्यक्षों की नियुक्ति, मुख्यमंत्री कमलनाथ ने दी स्वीकृति

भोपाल। खनिज विकास निगम, वन विकास निगम, मप्र पाठ्य पुस्तक निगम, हाउसिंग बोर्ड सहित अन्य निगम व मंडलों में अध्यक्ष, उपाध्यक्ष पदों पर राजनीतिक नियुक्ति होने तक विभागीय मंत्री, अपर मुख्य सचिव, प्रमुख सचिवों को नियुक्त किया जा रहा है। सामान्य प्रशासन विभाग ने इसकी तैयारी शुरू कर दी है। इस प्रस्ताव पर मुख्यमंत्री कमलनाथ की स्वीकृति मिल चुकी है। सोमवार को नियुक्ति के आदेश जारी किए जा सकते हैं।

कमलनाथ सरकार को अस्तित्व में आए दो माह हो गए हैं। सरकार ने आते ही निगम-मंडलों से भाजपा नेताओं की विदाई कर दी। सभी निगम-मंडलों से अध्यक्ष, उपाध्यक्ष के हटते ही वहां के काम प्रभावित होने लगे हैं। यहां तक कि अफसरों को नियमित काम करने में भी दिक्कत हो रही है। इसलिए संबंधित विभागों के अफसरों ने अध्यक्ष, उपाध्यक्षों की नियुक्ति की मांग की थी। इसे देखते हुए सामान्य प्रशासन विभाग ने मुख्यमंत्री सचिवालय को प्रस्ताव भेजा था। सूत्र बताते हैं कि प्रस्ताव से मुख्यमंत्री कमलनाथ सहमत हैं। अब सामान्य प्रशासन विभाग को नियुक्ति आदेश जारी करने हैं, जो सोमवार को हो सकते हैं।

लोस चुनाव के बाद होंगी राजनीतिक नियुक्ति
लोकसभा चुनाव के बाद सरकार निगम-मंडलों में राजनीतिक नियुक्ति शुरू करेगी। इस अवधि तक निगम-मंडलों का कामकाज प्रभावित न हो, इसलिए संबंधित विभाग के मंत्री, अपर मुख्य सचिव और प्रमुख सचिव को अध्यक्ष नियुक्ति किया जा रहा है। लोकसभा चुनाव के बाद सरकार कांग्रेस के ऐसे नेताओं को इन पदों की जिम्मेदारी सौंपेगी, जो विधानसभा का टिकट और जीतने पर मंत्री पद नहीं मिलने से नाराज चल रहे हैं। लोकसभा चुनाव के बाद ऐसे लोगों की संख्या बढ़ जाएगी। इसलिए सरकार राजनीतिक नियुक्ति बाद में ही करेगी।

ऐसे प्रभावित हो रहा काम
नया शैक्षणिक सत्र एक अप्रैल से शुरू होना है। इससे पहले प्रदेश के सरकारी स्कूलों में पढ़ रहे सवा करोड़ विद्यार्थियों के लिए किताबों की छपाई होना है। ऐसे में मप्र पाठ्य पुस्तक निगम में अध्यक्ष न होने के कारण छपाई प्रक्रिया प्रभावित हो रही है, क्योंकि अध्यक्ष न होने के कारण निगम की समितियों की बैठक नहीं हो पा रही है।