सीबीएसई 10वीं का परीक्षा : MP की टॉपर रतलाम की आस्था बोली- हर दिन का टारगेट तय था

CBSE 10th examination: Mop's topper's belief bid- every day's target was fixed

रतलाम। सीबीएसई का कक्षा 10वीं का परीक्षा परिणाम सोमवार दोपहर जारी हुआ। शहर के अधिकांश सीबीएसई स्कूलों का परीक्षा परिणाम शत प्रतिशत रहा। परिणाम में छात्र-छात्राओं दोनों ने बाजी मारी। देश में सीबीएसई की टॉप 100 सूची में रतलाम के सेंट जोसेफ कॉन्वेंट स्कूल की छात्रा आस्था रघुवंशी ने बाजी मारते हुए 67 स्थान पाया है। 99.4 प्रतिशत अंक हासिल कर आस्था मध्‍य प्रदेश में नंबर एक पर रही।

आस्था ने 500 में से 497 अंक हासिल किए हैं। अन्य स्कूलों में भी विद्यार्थियों को अच्छा रिजल्ट रहा है। दोपहर को जैसे ही रिजल्ट घोषित होने की जानकारी मिली तो विद्यार्थियों के चेहरे खिल गए। सभी अपने-अपने स्तर से परिणाम जानने में लग गए। अपने-अपने स्कूलों में पहुंचकर विद्यार्थियों ने खुशियां मनाई। स्कूल स्टाफ ने विद्यार्थियों को मुंह मीठा करवाकर बधाई दी।

दोपहर को जैसे परिणाम आया तो कई विद्यार्थी शहर से बाहर थे। जिनमें प्रदेश में नंबर एक पर आने वाली आस्था भी शामिल थी। आस्था दोपहर 4 बजे इंदौर से रतलाम के लिए रवाना हुई। उज्जैन में मां सविता को साथ लिया। रात्रि 8 बजे के करीब वह घर पहुंची। इसके पहले पिता मुकेश कुमार रघुवंशी स्टेशन लेने पहुंचे। पिता ने अपनी बिटिया को गले लगा लिया।

शहर के मित्र निवास रोड स्थित सेंट जोसेफ कॉन्वेंट स्कूल की परीक्षा परिणाम शत-प्रतिशत रहा। परीक्षा में 318 विद्यार्थी शामिल हुए थे। सभी पास होे गए। 78 विद्यार्थियों ने 90 प्रतिशत अंक प्राप्त किए। स्कूल की आस्था रघुवंशी ने 99.4, प्रियांशी जैन ने 98.20 व आदित्य जोशी ने 97.60 प्रतिशत अंक हासिल किए। आस्था प्रदेश में सीबीएसई के रिजल्ट में पहले नंबर पर है। आस्था को सभी विषय में ए-1 ग्रेड हासिल हुई। है। हिंदी और विज्ञान में 100-100 व अंग्रेजी, गणित, सामाजिक विज्ञान में 99-99 अंक हासिल किए। अनुनय शुक्ला ने 97.3, खुशाली व्यास ने 95.5 प्रतिशत अंक हासिल किए।

आस्था का कहना था कि डेली पढ़ाई के लिए घंटे फिक्स नहीं किए। हर दिन का टारगेट जरूर फिक्स था कि इतनी पढ़ाई करना है। 5 से 6 घंटे तक पढ़ाई हो ही जाती थी। घरवालों का कभी प्रेशर नहीं रहा और ना ही कभी पढ़ने का बोला। बस यह जरुर कहते थे कि टाइम से सो जाना। स्कूल का पूरा सपोर्ट रहा। आस्था ने विद्यार्थियों के लिए कहा है कि वे रिलेक्स होकर पढ़ाई करें। तनाव ना पालें। शुरूआत से ही मेहनत करते चले तो उसके परिणाम मिलेंगे। जितना हो सके उतना ही करे। रिजल्ट कुछ भी आए उसके बारे में न सोचें। अब आईआईटी करके आगे पढ़ाई करना है।