कई रोगों के लिए रामबाण औषधि है मैथीदाना, अजवाइन और काली जीरी का मिश्रण

methi kali jeeri and ajwain

कई रोगों के लिए रामबाण औषधि है मैथीदाना, अजवाइन और काली जीरी का मिश्रण

मैथीदाना और अजवाइन आम तौर पर रसोई में प्रयोग किए जाने वाले मसाले हैं, लेकि‍न इनसे होने वाले स्वास्थ्य लाभ भी कुछ कम नहीं है। अगर इन दोनों के साथ काली जीरी को भी मिला दिया जाए, तो यह मिश्रण सोने पर सुहागे की तरह कम करता है। मैथीदाना और अजवाइन के गुणों का लाभ उठाने के लिए इनकी मात्रा का अनुपात सही होना बेहद अवश्यक है, ताकि इससे होने वाले स्वास्थ्यवर्धक लाभ में कोई कमी न हो। मैथीदाना, अजवाइन और काली जीरी को लगभग 250 ग्राम, 100 ग्राम और 50 ग्राम के अनुपात में मिलाकर, हल्का-सा सेक लें और फिर चूर्ण बना लें।
इस चूर्ण को प्रतिदिन रात को सोते समय गर्म पानी के साथ लेने से आपकी कई तरह की समस्याएं दूर हो सकती हैं। यही नहीं इसके कई और भी फायदे हैं, जो आपको पूरी तरह से स्वस्थ रखने में सहायक सिद्ध होते हैं। आइए जानते हैं इसके लाभ –

दवा बनाने के लिए आवश्यक सामग्री

  • 250 ग्राम मैथीदाना
  • 100 ग्राम अजवाइन
  • 50 ग्राम काली जीरी

Read:- करेले का जूस सेहत के लिए बेहद फायदेमंद

औषिधि तैयार करने का तरीका

उपरोक्त तीनो चीजों को साफ-सुथरा करके हल्का-हल्का सेंकना (ज्यादा सेंकना नहीं) तीनों को अच्छी तरह मिक्स करके मिक्सर में पावडर बनाकर कांच की शीशी या बरनी में भर लेवें।

सेवन करने का तरीका
रात्रि को सोते समय एक चम्मच पावडर एक गिलास पूरा कुन-कुना पानी के साथ लेना है। गरम पानी के साथ ही लेना अत्यंत आवश्यक है लेने के बाद कुछ भी खाना पीना नहीं है। यह चूर्ण सभी उम्र के व्यक्ति ले सकतें है। चूर्ण रोज-रोज लेने से शरीर के कोने-कोने में जमा पडी गंदगी (कचरा) मल और पेशाब द्वारा बाहर निकल जाएगी । पूरा फायदा तो 80-90 दिन में महसूस करेगें, जब फालतू चरबी गल जाएगी, नया शुद्ध खून का संचार होगा । चमड़ी की झुर्रिया अपने आप दूर हो जाएगी। शरीर तेजस्वी, स्फूर्तिवाला व सुंदर बन जायेगा ।

इन असाध्य 18 रोगों में फायदेमंद है
गठिया दूर होगा और गठिया जैसा जिद्दी रोग दूर हो जायेगा।
हड्डियाँ मजबूत होगी।
आँखों रौशनी बढ़ेगी।
बालों का विकास होगा।
पुरानी कब्जियत से हमेशा के लिए मुक्ति।
शरीर में खुन दौड़ने लगेगा।
कफ से मुक्ति।
हृदय की कार्य क्षमता बढ़ेगी।
थकान नहीं रहेगी, घोड़े की तहर दौड़ते जाएगें।
स्मरण शक्ति बढ़ेगी।
स्त्री का शारीर शादी के बाद बेडोल की जगह सुंदर बनेगा।
कान का बहरापन दूर होगा।
भूतकाल में जो एलापेथी दवा का साईड इफेक्ट से मुक्त होगें।
खून में सफाई और शुद्धता बढ़ेगी।
शरीर की सभी खून की नलिकाए शुद्ध हो जाएगी।
दांत मजबूत बनेगा, इनेमल जींवत रहेगा।
नपुसंकता दूर होगी।

डायबिटिज काबू में रहेगी, डायबिटीज की जो दवा लेते है वह चालू रखना है। इस चूर्ण का असर दो माह लेने के बाद से दिखने लगेगा । जिंदगी निरोग, आनंददायक, चिंता रहित स्फूर्ति दायक और आयुष्ययवर्धक बनेगी । जीवन जीने योग्य बनेगा।