भाजपा महाकुंभ से पीएम मोदी करेंगे मप्र में चुनावी शंखनाद

भाजपा महाकुंभ से पीएम मोदी करेंगे मप्र में चुनावी शंखनाद

भाजपा महाकुंभ से पीएम मोदी करेंगे मप्र में चुनावी शंखनाद

भोपाल। पंडित दीनदयाल उपाध्याय की 102वीं जयंती के मौके पर 25 सितम्बर को भोपाल में होने वाले भाजपा कार्यकर्ताओं के प्रदेशस्तरीय सम्मेलन महाकुंभ में पीएम मोदी भी शामिल होने वाले है।  वे यहीं से मप्र का चुनावी शंखनाद करेंगे। इस कुंभ के जरिए मोदी 2018-2019 की सियासी जंग को फतह करने की रणनीति पर फोकस किए हुए है। बताया जा रहा है कि यह अब तक का सबसे बड़ा भाजपा का प्रदेश में होने वाला आयोजन होगा, इसमें 10 लाख कार्यकर्ताओं को जुटाने का लक्ष्य रखा गया है। इस महाकुंभ में पार्टी अध्यक्ष अमित शाह के साथ-साथ भाजपा के कई दिग्गज नेता भी मौजूद रहेंगे। वे कार्यकर्ताओं को चुनाव जीतने का मूलमंत्र देंगें। कार्यक्रम का आयोजन राजधानी के जंबूरी मैदान में किया जाएगा। इसके पहले मुख्यमंत्री शिवराज जन्माष्टमी पर इसका भूमि पूजन करने वहां जाएंगे।

– सभी मतदान केंद्रों से पार्टी की टोली को किया गया आमंत्रित
कार्यकर्ता महाकुंभ में प्रदेश के सभी मतदान केंद्रों से पार्टी की टोली (पन्ना प्रमुख) और इससे ऊपर के सभी पदाधिकारी बुलाए गए हैं। आयोजन की तैयारियां अभी से शुरू हो गई है, सुरक्षा को ध्यान रखते हुए पुलिसकर्मियों को खास निर्देश दिए जा रहे है। बैठकें की जा रही है। वही पार्टी द्वारा आॅनलाइन और आॅफलाइन रजिस्ट्रेशन के जरिए कार्यकतार्ओं को न्यौता भेजा जा रहा है। इसके अलावा इस महाकुम्भ के लिए अलग से नया गीत भी तैयार किया जा रहा है। आयोजन के लिए कई कमिटियों का गठन भी किया जा रहा है। इसी महाकुम्भ से भाजपा चुनाव का शंखनाद करेगी। भाजपा चौथी बार भी शिवराज के नेतृत्व में मध्य प्रदेश में सरकार बनाने का दावा कर रही है। भाजपा का कहना है कि जनआशीर्वाद यात्रा से सरकार को जनता का भारी समर्थन मिल रहा है, इस बार बीजेपी 2013 के विधानसभा चुनाव से भी ज्यादा सीटें हासिल कर प्रदेश में अपनी सरकार बनायेगी।

वहीं भाजपा की अंदरूनी राजनीति में बदलाव के साथ जब पार्टी का फोकस पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी पर बना हुआ है। ऐसे में मोदी-शाह और शिवराज की तिकड़ी केंद्र और राज्य सरकार की उपलब्धियों के नाम पर चुनाव का एजेंडा सेट कर सकती है। फिलहाल शिवराज सिंह चौहान की कोशिश है कि जन आशीर्वाद यात्रा के साथ वो मध्यप्रदेश के सभी 230 विधानसभा क्षेत्रों में अपनी प्रभावी धमाकेदार मौजूदगी दर्ज कराएं , जिसका फायदा उन्हें आने वाले विधानसभा चुनाव में मिल सके।बता दे कि इसके पहले 2008 और 2013 में भी यह सम्मलेन हुआ था। इस बार जनआशीर्वाद यात्रा 25 सितंबर को कार्यकर्ता महाकुम्भ के बाद भी जारी रहेगी, हर बार कार्यकर्ता महाकुम्भ में जनआशीर्वाद यात्रा का समापन था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *